Labour Card Scholarship 2023: असंगठित श्रमिकों के बच्चों को उच्च शिक्षा का रास्ता

श्रम और रोजगार मंत्रालय ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों के बच्चों, खासकर बीड़ी, आईओएमसी और एलएसडीएम में काम करने वालों के लिए श्रम कार्ड छात्रवृत्ति कार्यक्रम शुरू किया है।

इसका उद्देश्य इन बच्चों को छात्रवृत्ति कार्यक्रमों में दाखिल करना आसान बनाना है, जिससे उन्हें एक उज्ज्वल भविष्य के लिए बेहतर अवसर मिल सकें।

यह छात्रवृत्ति विशेष रूप से बीड़ी/सिने/आईओएमसी/एलएसडीएम श्रमिकों के बच्चों के लिए बनाई गई है, जिसका लक्ष्य शिक्षा के लिए आर्थिक बाधाओं को दूर करना है।

यह छात्रवृत्ति कार्यक्रम योग्य छात्रों के लिए विभिन्न श्रेणियों को शामिल करता है। मैट्रिक के बाद की छात्रवृत्ति 3,000 रुपये से 25,000 रुपये तक है, जबकि मैट्रिक से पहले की छात्रवृत्ति 1,000 रुपये से 2,000 रुपये तक है।

पहली से दसवीं कक्षा के छात्रों के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति उपलब्ध है, जबकि मैट्रिक के बाद की छात्रवृत्ति उन छात्रों के लिए खुली है जो 11वीं कक्षा से आईटीआई/पॉलिटेक्निक/प्रोफेशनल और डिग्री पाठ्यक्रम कर रहे हैं।

पॉलिटेक्निक और आईटीआई के छात्र विशेष रूप से 6,000 रुपये की छात्रवृत्ति से लाभान्वित होंगे।

श्रम कार्ड छात्रवृत्ति 2023 का प्रमुख लक्ष्य असंगठित श्रमिकों के उन बच्चों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है, जिन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने में बाधाओं का सामना करना पड़ता है।

यह छात्रवृत्ति युवाओं को सशक्त बनाने का प्रयास करती है, जिससे वे वित्तीय सहायता के माध्यम से गरीबी के प्रभाव को कम करके अपनी आकांक्षाओं का पीछा कर सकें और अपने परिवारों के सपनों को पूरा कर सकें।

छात्रवृत्ति के लिए पात्रता उन योग्य श्रमिकों के लिए खुली है जिनके पास वैध श्रम कार्ड है, साथ ही विशिष्ट उद्योगों में कर्मचारियों के लिए सरकार द्वारा जारी पहचान पत्र भी है।

लेबर कार्ड स्कॉलरशिप के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे क्लिक करें।